हमे ही कुछ कदम उठाने होंगे.

हमे ही कुछ कदम उठाने होंगे.
कुछ बदले से तेवर दिखाने होंगे,
ऐ मेरे दोस्तों ज़रा नींद से जागो!
कुछ कर्तब्य हमे भी निभाने होंगे…………..
वर्ना……….
...ज़मीन बेच देंगे गगन बेच देंगे,
नदी नाले पर्वत चमन बेच देंगे,
अरे नौज़वानों अभी तुम न संभले,
तो ये भ्रष्ट नेता वतन बेच देंगे!!

Views: 13

Comments are closed for this blog post

© 2014   Created by YouBihar

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service