शास्त्रों में अक्षय तृतीया का माहात्म्य

शास्त्रों में अक्षय तृतीया एवं अक्षय तृतीया का माहात्म्य

 

# शुभ व पूजनीय कार्य इस दिन होते हैं, जिनसे प्राणियों (मनुष्यों) का जीवन धन्य हो जाता है।

 

# इस दिन से सतयुग और त्रेतायुग का आरंभ माना जाता है।

 

# श्री परशुरामजी का अवतरण भी इसी दिन हु‌आ था।

 

#  इसी दिन श्री बद्रीनारायण के पट खुलते हैं।*

 

#  नर-नारायण ने भी इसी दिन अवतार लिया था।

 

#  हयग्रीव का अवतार भी इसी दिन हु‌आ था।

 

#  वृंदावन के श्री बाँकेबिहारीजी के मंदिर में केवल इसी दिन श्रीविग्रह के चरण-दर्शन होते

हैं अन्यथा पूरे वर्ष वस्त्रों से ढँके रहते हैं।

 

# जो मनुष्य इस दिन गंगा स्नान करता है, उसे पापों से मुक्ति मिलती है।

 

#  इस दिन परशुरामजी की पूजा करके उन्हें अर्घ्य देने का बड़ा माहात्म्य माना गया है।

 

#  श्रीकृष्ण ने भी कहा है कि यह तिथि परम पुण्यमय है। इस दिन दोपहर से पूर्व स्नान, जप, तप, होम, स्वाध्याय, पितृ-तर्पण तथा दान आदि करने वाला महाभाग अक्षय पुण्यफल का भागी होता है।

Views: 19

Reply to This

यूबिहार सोसल नेटवर्क अब फ़ेसबुक पे है. **इधर क्लिक कीजिए**

© 2014   Created by YouBihar

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service